हिंदी Website ka seo kaise kare? अपने हिंदी ब्लॉग की रैंकिंग बढ़ाएं 2020

Hindi Website ka seo kaise kare featured.

हिंदी ब्लॉग / website ka seo kaise kare ?

हर हिंदी भाषी ब्लॉगर का यह पहला सवाल रहता है| हिंदी  website ka seo kaise kare?  इसकी वजह है की कोई SEO-Search Engine Optimization टूल्स हिंदी में नहीं है| इंटरनेट पर जो भी टूल्स उपलब्ध है वो इंग्लिश + Other Languages को ही सपोर्ट करता है|

ऐसी स्तिथि में अगर हमें हिंदी पोस्ट्स को रैंक करना है तो क्या करें?  हिंदी में लिखते हुए, आर्टिकल का SEO कैसे करें? Website ka seo kaise kare ?

Hindi blog ka seo kaise kare

मैंने इंटरनेट पर कुछ ब्लोग्गेर्स द्वारा इसका हल, कुछ इस प्रकार देखा है| ब्लोग्गेर्स Website ka SEO करने के लिए हिंदी की जगह हिंगलिश का यूज़ करने लगते हैं| मतलब हिंदी के शब्द इंग्लिश में लिखते हैं| जैसे – Hindi ke shabd english me likhte hai.  यह उपाय भी SEO के हिसाब से सही है|

मगर ऐसा करने से हम मूल मुद्दे से भटक जातें हैं| हमारा ब्लॉग हिंदी में है तो कंटेंट 100% हिंगलिश में क्यों हो? कंटेंट भी तो हिंदी में होना चाहिए| जिससे हिंदी समझने वाले पाठक उससे जुड़ सकें, उसे समझ सके| और साथ में अपने Blog/ Website Ka SEO भी हो जाये | 

फिर सवाल आता है की ऐसे में हिंदी आर्टिकल का SEO-Search Engine Optimization कैसे करें? मतलब कोई ऐसा तरीका निकलना जिससे दोनों काम हो जाये|

  1. कंटेंट  हिंदी में ही हो, न की 100% हिंगलिश में
  2. अपने हिंदी कंटेंट का SEO-Search Engine Optimization कर के, उसे सर्च  रैंकिंग में लाया जाये

अपने हिंदी ब्लॉग/ website ka seo करने के लिए सबसे पहले यह समझना होगा|SEO कैसे काम करता है ?

SEO कैसे काम करता है ?

SEO=Search Engine Optimization. यह समझना कोई राकेट साइंस नहीं है| इसके नाम में ही इसका मतलब छुपा है| Search= खोज, Engine = जिस अल्गोरिथम या तरीके से यह सब होता है, Optimization = सटीक या अनुकूल |

Website ka seo kare

देखिये, हम कैसे किसी चीज़ को सर्च करते हैं? गूगल पर हम उस शब्द को लिखते हैं जिसकी हम जानकारी चाहते हैं| ब्लॉग्गिंग किस भाषा में इसे कीवर्ड ( Keywords/ Phrases ) कहते हैं| अब सर्च इंजन ( यहाँ Google ) इंटरनेट पर यह शब्द कहाँ-कहाँ है, उसकी खोज करता है| गूगल अपने Algorithm के हिसाब से, जिस वेबसाइट पर उस शब्द के विषय में सबसे सटीक जानकारी रहती है, उसे रिजल्ट्स में दिखता है| या जिस Website kKa SEO सबसे बढ़िया रहेगा वो सर्च में सबसे ऊपर दिखेगा | 

हर एक पेज पर 10 रिजल्ट्स रहते हैं| जो वेबसाइट उस शब्द या Keywords के लिए सबसे ज्यादा Optimised रहेगा| वो पहले पेज पर दिखेगा| इसे हीं  SEO= Search Engine Optimisation कहते हैं|

इसका मतलब की हम अगर अपने आर्टिकल का/ Website Ka SEO कर लें, तो सर्च में पहले पेज पर आ सकते हैं| और पहले पेज पर आने का मतलब होता है जबरदस्त ट्रैफिक| सर्च इंजिन्स (Google, Bing) अपने रिजल्ट्स में उन्ही वेबसाइट को दिखता है जिनकी कंटेंट बढ़िया है| और जिनकी DA= Domain Authority और PA= Page Authority अच्छी है|

DA= Domain Authority का मतलब है की किसी दूसरे वेबसाइट के आर्टिकल में, आपके वेबसाइट के कितने लिंक है | जितने ज्यादा लिंक, उतना ज्यादा Domain Authority. उदहारण के लिए जितनी बड़ी Website में आपका बैकलिंक होगा, आपका DA उतना ज्यादा होगा|

PA= Page Authority का मतलब है की किसी आर्टिकल में दूसरे पेज के कितने  लिंक हैं| जितने ज्यादा लिंक, उतना ज्यादा Page Authority. उदहारण के लिए Wikipedia वेबसाइट का PA 100% है|

इन्ही दोनों तरीकों से सर्च इंजन किसी कंटेंट को रिजल्ट में दिखता है| जिस ब्लॉग की DA, PA बढ़िया रहेगी, गूगल उसी को रैंक करेगी| बाकि Algorithm तो सीक्रेट रहती है, जिसका सिर्फ अंदाज़ा लगाया जा सकता है|

DA (Known Factor)+PA (Known Factor)+Algorithm(Unknown Factor)= Search Result

Algorithm सर्च इंजन का एक प्रोग्राम होता है| इस प्रोग्राम को यूज़ कर के सर्च इंजन रिजल्ट्स को बताता है | अल्गोरिथम हमेशा बदलता रहता है या अपडेट होता है | यह सर्च इंजन का ट्रेड सीक्रेट होता है| इसे कोई भी सर्च इंजन पब्लिक नहीं करती है | हां, यह सच है की SEO के कुछ तकनीकों के बारे में अब लोग जान गए हैं|

जरूरी बात: जब भी हम कुछ हिंदी कंटेंट को सर्च करते हैं, तो लिखतें हिंगलिश में ही हैं| जैसे Blogging kya hota hai? इसीलिए हमें सारा कंटेंट हिंदी फॉण्ट में हीं लिखना है, बस टार्गेटेड कीवर्ड्स (Targeted Keywords ) और उससे रिलेटेड कीवर्ड्स ( Related Keywords ) को HINGLISH में लिखना है| इससे हमारा ब्लॉग तो हिंदी में ही रहेगा और SEO के दृश्टिकोण से पोस्ट सर्च में रैंक भी करेगा | ( उदाहरण के लिए इसी ब्लॉग को देख लीजिए )

इसीलिए हमें सारा कंटेंट हिंदी फॉण्ट में हीं लिखना है, बस टार्गेटेड कीवर्ड्स (Targeted Keywords ) और उससे रिलेटेड कीवर्ड्स ( Related Keywords ) को हिंगलिश में लिखना है| इससे हमारा ब्लॉग तो हिंदी में ही रहेगा और Website Ka SEO के दृश्टिकोण से पोस्ट सर्च में रैंक भी करेगा |

अगर हम भी इन  SEO Fundamentals को जान लें, तो अपने हिंदी ब्लॉग का SEO कर सकते हैं| इससे हमारे ब्लॉग में ट्रैफिक ड्राइव होगा और इसकी रैंकिंग भी बढ़ेगी | 

SEO (Search Engine Optimization ) के प्रकार

  1. ON PAGE
  2. OFF PAGE

ON PAGE SEO

आर्टिकल लिखते समय जिस SEO टेक्निक्स का यूज़ किया जाता है, उसे ON PAGE SEO कहते हैं| इसमें मुख्य हैं Header, Post URL, Meta Descripition इत्यादि| Blog Ke SEO के नज़रिये से यह बहुत Important है | आइये विस्तार से देखते हैं|

On page SEO Hindi

1. HEADER TAGS: जब भी आप आर्टिकल लिखें तो Header Tags का यूज़ जरूर करें| जैसे H1, H2 इत्यादि| H1 टैग काफी महत्वपूर्ण है Website Ke SEO के लिए | 

  • सबसे पहले वाले पैराग्राफ H1- Header में ही लिखें और इसमें कीवर्ड जरूर डालें|
  • सब पैराग्राफ को H2 में लिखें, इसी तरह अपने पेज में कंटेंट फ्लो का ध्यान रखें |
  • हर एक हैडर (Header ) में कीवर्ड्स जरूर डालें |
  • कंटेंट को छोटे-छोटे पैराग्राफ में लिखें | इससे पढ़ने वाले को आसानी होती है| (कई रिसर्च में यह पाया गया है की लोग एक ही बड़े पैराग्राफ के जगह छोटे छोटे पैराग्राफ पढ़ना पसंद करते हैं)|

2. IMAGE ALT TAGS: Website Ke SEO के लिए, अपने कंटेंट में आप हाई रेसोलुशन ( HD Images) इमेज भी डालें|

  • इससे पढ़ने वाले को टॉपिक समझने में आसानी होती है|
  • गूगल इमेज को समझ नहीं पाता, इसीलिए इमेज में ALT-TAGS का यूज़ जरूर करिये | (इसे Image Website Ka SEO भी कहते हैं)|
  • ऑल्ट-टैग (ALT-TAGS) में कीवर्ड्स भी जरूर डालिये| इससे आपका कंटेंट All Search में भी रैंक करेगा और इमेज सर्च में भी रैंक करेगा|
  • आप अपना इमेज Canva से डिज़ाइन कर सकते हैं| ब्लॉग्गिंग के लिए जरूरी वेबसाइट की लिस्ट यहाँ देखें |

3. META TITLE: आपका ब्लॉग किस टॉपिक पर है META TITLE यह बताता है| यह 50-60 लेटर्स (Characters) का होना चाहिए| अगर ज्यादा लम्बा हुआ तो सर्च पेज उसे काट देगा, पूरा नहीं दिखायेगा|

On page SEO Hindi ME

4. META DESCRIPTION: आपके ब्लॉग के हरेक पेज, पोस्ट, केटेगरी की अलग META DESCRIPTION होनी चाहिए|

  • यह ऐसा होना चाहिए की पाठकों को आपका कंटेंट पढ़ने के लिए उत्तेजित करे|
  • इसी से आपके Blog का XML SITEMAP भी बनता है| इसी से आपका ब्लॉग SERPs (Search engine results page) में शो होता है|

5. SITEMAP: गूगल बोट्स जब किसी टॉपिक को सर्च कर रहे होते हैं तो वो विभिन्न वेबसाइट के XML SITEMAP को क्रॉल करते हैं| आसान भाषा में अगर आपके वेबसाइट का XML SITEMAP गूगल सर्च कंसोल में सबमिट है, तब गूगल आपके वेबसाइट को सर्च रिजल्ट्स में दिखायेगा, अन्यथा नहीं| 

इसीलिए अपने वेबसाइट का XML SITEMAP  गूगल सर्च कंसोल में अवश्य सबमिट करें| XML SITEMAP कैसे सबमिट करते हैं जानने के लिए यहाँ क्लिक करें|

6. INTERNAL LINK BUILDING: जब भी आप कोई पोस्ट लिखते हैं तो इसमें इंटरनल लिंक जरूर डालिये|

  • इससे आपके विभिन्न पोस्ट्स में नेविगेट (Navigate) करना आसान रहता है|
  • जब भी किसी पोस्ट में, आपके ही वेबसाइट का कोई रिलेटेड टॉपिक आये तो उसे हाइपरलिंक का यूज़ कर के लिंक बना दें|  
  • Internal Link से आपके वेबसाइट का PA (पेज अथॉरिटी) बढ़ता है| 
  • उदहारण के लिए विकिपीडिया वेबसाइट का PA 100% है |

7. POST URL: आपके हरेक आर्टिकल/ पोस्ट के यूआरएल में टार्गेटेड कीवर्ड्स का उपयोग जरुर करें| इससे आर्टिकल के सर्च में आने की संभावना बढ़ जाती है | और वेबसाइट / Blog Ka SEO भी हो जायेगा| 

जैसे यहाँ देखिये मैंने अपने इस आर्टिकल के यूआरएल में इस कीवर्ड का यूज़ किया है |

Keyword: Most Useful Websites

On page SEO Hindi TARGETED KEYWORD IN url

8. USE MOBILE FRIENDLY/ OPTIMISED THEME: एक सर्वे के हिसाब से लगभग 80% लोग अपने मोबाइल से इंटरनेट का यूज़ करते हैं | इसीलिए आपका वर्डप्रेस थीम मोबाइल फ्रेंडली होना चाहिए| 

OFF PAGE SEO

जब आप अपना कंटेंट लिख लिए हैं और ON PAGE SEO कर लिए हैं तो OFF PAGE SEO की बारी अति है | इसमें आते हैं सोशल मीडिया शेयरिंग, बैकलिंक्स, गेस्ट पोस्ट्स, फ्रेश कंटेंट को अपडेट करते रहना, लॉन्ग टेल कीवर्ड्स का यूज़ करना, LSI कीवर्ड्स का यूज़ करना इत्यादि| लिस्ट काफी लम्बी है, मगर जो मैंने यहाँ बताया है वह सबसे जरूरी और बेसिक जानकारी है|

1. कंटेंट को अपडेट करते रहना: गूगल (या सभी सर्च इंजन) हमेशा अपने पाठकों को फ्रेश और नया कंटेंट और रिलेवेंट कंटेंट दिखता है| इसके लिए आपको अपने कंटेंट को रेगुलर इंटरवल पर अपडेट करते रहना चाहिए| अगर कोई नयी जानकारी है तो उसे अपने कंटेंट में ऐड करना न भूलें| इससे आपका कंटेंट हमेशा अपडेट रहेगा| 

2.  हाई रैंकिंग KEYWORDS का उपयोग कीजिये : अपने आर्टिकल में High Ranking Keywords का उपयोग कीजिये| आपके कीवर्ड्स का Density 2% होना चाहिए| जैसे अगर आपका पोस्ट 2000 वर्ड्स का है तो कीवर्ड्स का इस्तेमाल आपको 40 बार करना चाहिए| इससे ज्यादा नहीं, वरना Keyword Stuffing होगा और आपका आर्टिकल स्पैम में जा सकता है| इसीलिए अपने आर्टिकल में 1.5-2% कीवर्ड्स डेंसिटी रखिये| 

  • अपने आर्टिकल में लॉन्ग टेल कीवर्ड्स (Long Tail Keywords) का यूज़ कीजिये| इसके लिए आप Semrush का यूज़ कर सकते हैं | 
  • LSI Keywords (Latent Semantic Indexing) का यूज़ कीजिये| इसके लिए आप इन वेबसाइट का यूज़ कर सकते हैं | Google Keyword Planner, LSI Graph, etc. 

हमारे पोस्ट्स आपकी जानकारी बढ़ाने और आपसे संपर्क स्थापित करने का एक जरिया है| अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Whatsapp, Twitter, LinkedIn, Telegram, Pinterest इत्यादि पर Share कीजिये|

❤❤❤❤❤ इससे हमारा उत्साह बढ़ता है ❤❤❤❤❤ 

सभी सोशल नेटवर्क के लिंक निचे दिए गए हैं |Backhand Index Pointing Down on Facebook 3.1

!!आपका धन्यवाद् !!

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *